सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कौन कहता है, सपने पूरे नहीं होते - लोकार्पण सपनाज ड्रीम्स इन डेजर्ट (एक पाती), अस्मिता (कहानी संग्रह)

लोकार्पण- सपनाज ड्रीम्स इन डेजर्ट (एक पाती) 

 फरिश्ता बन गया कोई चमकता है सितारों में ,
बनके हर फूल में खुशबू वो रहता है 
बहारों में, 
किन्हीं आँखों का वो सपना है, उन्हीं आँखों में जिंदा है - 
 फँसे ना कोई लहरों में वो रहता है किनारों में।। 
अस्मिता ( कहानी-संग्रह)



  
    कौन कहता है कि सपने सच नहीं होते हाँ! काँच से नाजुक और पानी के बुलबुले से क्षण भंगुर होते हैं सपने। 
        कुछ सपने जो क्षण भर के लिए आँखों में आते हैं पर कुछ आँखें इसी एक क्षण में उन सपनों को आँखों के रास्ते ह्रदय में बंद कर लेते हैं।
     सपनों को पूरा करने की ठान चुका व्यक्ति जुट जाता है जी जान से अपने सपने को पूरा करने। 
    एक सपने की किलकारियाँ गूंजी थी नीलम शर्मा जी के आँगन में नीलम जी ने भी देखा था एक सपना... बस क्षणिक ।     
      बाईस वर्षो तक उस सपने को आँखों में काजल की तरह लगाया। जीवन की हर रिक्तता को अपनी हँसी से  पूरा करता अपनी सुखद उपस्थिति की अनुभूति के अनूठे एहसास से देखते ही देखते उस बुलबुले ने सपना जी के दिल के कोने में खास स्थान ले लिया लिया। 
       उस सुहाने 'सपने' को देखती उनींदी माँ कैसे टूटने देती अपना सपना। नियति ने बहुत कोशिश की माँ से उनका सपना छीनने की। बहुत कोशिश की उस बुलबुले को मिटाने की। बहुत दुःख, बहुत दर्द 
कभी आँसू तो खामोशी के सागर में डुबोने चली नियति भी हार मानकर नतमस्तक हो गई उस दृढ़ निश्चयी माँ के आगे। 
  ना तो माँ हारी ना ही उसका सपना टूटा क्योंकि माँ ने अपनी आँखों से अपने सपनों के मोती बहाने से मना कर अपनी पलकें बंद कर लीं और बना लिया एक 'स्वप्नलोक' अपनी सपना के लिए। 
  सपनामय हो चुकी नीलम शर्मा जी को आज भी राह दिखा रहा है उनका प्यारा और खास सपना। 
    हर बालिका में देखती है वो 'सपना' और शिक्षा के आलोक से बहुत सी जरूरतमंद और ग्राम्य बालाओं के जीवन  से निरक्षरता का अंधियारा मिटाकर अपने 'स्वप्नलोक' में तैयार कर रहीं हैं देश की सुनहरी शिक्षित पौध। 
     अपने 'सपने' की दिखाई राह पर चलकर बढ़ रही हैं आगे और साहित्य के माध्यम बयां कर रही हैं उस सपने से जुड़े किस्से और कहानियाँ । 
  इसी क्रम में रविवार 12 दिसंबर 2021 को वरिष्ठ लेखिका श्रीमती नीलम 'सपना' शर्मा की दो पुस्तकों' 'सपनाज ड्रीम्स इन डेजर्ट' ( एक पाती ) एवं अस्मिता - (कहानी-संग्रह) का लोकार्पण संस्था 
#नारी कभी ना हारी' के बेनर तले सपना  के 'स्वप्नलोक'हुआ ।
   आवश्यक कार्य होने के कारण वीना चौहान दी कार्यक्रम में नहीं आ पाई किंतु तकनीक की सहायता से वो साथ ही रहीं।
 उनकी तय किए कार्यक्रम के अनुसार कार्यक्रम की अध्यक्षता गलता पीठाधीश्वर श्री अवधेशाचार्य जी ने की  कार्यक्रम के  विशिष्ट अतिथि थे आदरणीय अनिल कौशिक जी तथा कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे अतिथि #मन की टकसाल  फेम डॉ.बजरंग सोनी। थजिन्होंने हमेशा की तरह अपने वाणी का जादू बिखरते हुए श्रोताओं को सम्मोहित कर दिया और जब उन्होंनें वाणी को विराम दिया तब तक हर श्रोता भीगी पलकों पर हाथ फेरता दिखाई दिया । 
     डॉ. आशा शर्मा  जी और सतीश व्यास जी ने पुस्तकों की शानदार  समीक्षा के द्वारा श्रोताओं के हृदय में पुस्तकों को पढ़ने के लिए उत्कंठा जागृत की। 
      कार्यक्रम का सुंदर संचालन किया आदरणीय रानी तवंर जी ने। 

     शिक्षाविद शकुंतला शर्मा जी के सुगंधित पुष्प वृष्टि की भाँति सौम्य धन्यवाद ज्ञापन से हर हृदय महक उठा । 
      पहले दिन थोड़ी तबीयत खराब होने के कारण कार्यक्रम में जाना असंभव सा लगा  किंतु वीना चौहान दी एवं नीलम  ' सपना' दी के स्नेह एवं शकुंतला दी की प्रार्थना से मैं ठीक होकर कार्यक्रम में गई और सभी वरिष्ठ लेखिकाओं की ममता, लाड़ और प्यार पाकर निहाल हो गई ।
      कमलेश शर्मा दी, निर्मला गहलोत दी, आशा शर्मा ' अंशु दी, सुशीला शर्मा दी, रमा भाटी दी आदि के स्नेह से स्नेह पाकर अभिभूत हूँ।
  शानदार कार्यक्रम की सफ़लता के लिए नारी कभी ना हारी की हर सदस्या एवं संस्था की अध्यक्ष आदरणीय वीना चौहान दी तथा नीलम 'सपना' शर्मा दी को बहुत-बहुत बधाई  एवं शुभकामनाएं। 


टिप्पणियाँ

  1. शाबाश सुनीता बहुत बढिया लिखा है, बधाई शुभकामनाऐ ।

    जवाब देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. आपकी सारगर्भित उदाहरण शैली और संवादात्मक वाक् कला श्रोताओं मंत्रमुग्ध कर देती है

      हटाएं
  3. बेहतरीन कवरेज। सादर अभिनन्दन।

    जवाब देंहटाएं
  4. सुनिताजी,
    बेहद रूचिकर और सुंदर रिपोर्टिंग पढ़कर मन आह्लादित हो रहा है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी अद्भुत समीक्षा शैली पाठक के हृदय में पुस्तक पढ़ने की जिज्ञासा जागृत करती है आपको मेरा लेखन पसंद आया मेरा सौभाग्य है। हार्दिक धन्यवाद सतीश जी

      हटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जलाते चलो - - #द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

भावार्थ   जलाते चलो - -  #द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी का जन्म 1 दिसम्बर 1916 को आगरा जिला के रोहता गाँव में हुआ। उनकी मुख्य कृतियाँ - 'हम सब सुमन एक उपवन के' , 'वीर तुम बढ़े चलो'...  जलाते चलो ये दिये स्नेह भर-भर कभी तो धरा का अँधेरा मिटेगा। भले शक्ति विज्ञान में है निहित वह कि जिससे अमावस बने पूर्णिमा-सी; मगर विश्व पर आज क्यों दिवस ही में घिरी आ रही है अमावस निशा-सी। बिना स्नेह विद्युत-दिये जल रहे जो बुझाओ इन्हें, यों न पथ मिल सकेगा॥1॥ जला दीप पहला तुम्हीं ने तिमिर की चुनौती प्रथम बार स्वीकार की थी; तिमिर की सरित पार करने तुम्हीं ने बना दीप की नाव तैयार की थी। बहाते चलो नाव तुम वह निरंतर कभी तो तिमिर का किनारा मिलेगा॥2॥ युगों से तुम्हींने तिमिर की शिला पर दिये अनगिनत हैं निरंतर जलाये; समय साक्षी है कि जलते हुए दीप अनगिन तुम्हारे पवन ने बुझाये। मगर बुझ स्वयं ज्योति जो दे गये वे उसी से तिमिर को उजेला मिलेगा॥3॥ दिये और तूफान की यह कहानी चली आ रही और चलती रहेगी; जली जो प्रथम बार लौ दीप की स्वर्ण-सी जल रही और

नश्वर जीवन...नहीं मरूंगी मैं

नहीं मरूंगी मैं  दुनिया है दुनिया में अपनी  आज निशानी छोड़ रही हूँ  झूठ जगत में रिश्ते नाते  मगर निभाए सारे हैं  क्या पाया रिश्ते-नातों में  मत पूछो हम हारे हैं  रिश्तों के पतले धागे मैं  पकड़े हूँ, ना छोड़ रही हूँ  ।।  धरती पर जो  भी आया है एक दिन उसको जाना है,  सत्य जानती हूँ जीवन का छोड़ जगत को जाना है ।  इस नश्वर जीवन का मुख मैं  अमर बेल से जोड़ रही हूँ।।  नहीं मरेगी कभी कविता  जीवन गीत सुनाएगी,  याद रहूँगी किस्सों में  बातें दोहराई जाएंगी । कलम कहेगी किस्से मेरे  इससे रिश्ता जोड़ रही हूँ।।  सुनीता बिश्नोलिया ©®

लघु कथा लेखन

लघु कथा लेखन  लघु कथा लेखन  लघु अर्थात 'संक्षिप्त   लघु कथा साहित्य की प्रचलित और लोकप्रिय विधा है।  देखा जाए तो यह उपन्यास का ही लघु संस्करण है।   हालांकि 'लघु' का मतलब संक्षिप्त होता है किंतु संक्षिप्त' होने के बावजूद भी पाठक  पर इसका प्रभाव दीर्घकालीन  होना आवश्यक है अर्थात लघु कथा गागर में सागर भरने वाली अनुपम विधा है।   किसी उपन्यास के समान इसमें भी पात्र कथानक, द्वंद समायोजन तथा समाधान जैसे तत्व विद्यमान होते हैं।   लघुकथा कल्पना प्रधान कृति है परंतु इसके प्रेरणा जीवन  की वास्तविकता तथा आसपास की घटनाओं से ही मिल जाती है।      अर्थात हम कह सकते हैं कि लघु कथाएं सीमित शब्दों में बहुत कुछ कह देने की योग्यता रखती  हैं तथा पाठकों के अंतर्मन पर पहुंचकर अपना संदेश उन तक पहुंचाती है और यही लघुकथा का  मुख्य उद्देश्य है।   अतः लघुकथा का वास्तविक उद्देश्य तभी सार्थक है जबइसे  पढ़कर   पाठक प्रभावी तथा संतुष्ट हो जाए।   ***लघु कथा लेखन के दौरान ध्यान रखने योग्य जरूरी बातें ----- ** अच्छी लघुकथा लिखने के लिए लेखक को एक अच्छा पाठक होना भी जरूरी