सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

T20_world_cup_2024 विश्वकप 2024 #champion

   

भारत बनाम दक्षिण अफ्रीका (विश्व कप फाइनल - (IND vs SA) 
  धड़कते दिल और अटकती साँसों के बीच नवजोत सिंह सिद्धू, हरभजन सिंह, इरफान पठान और श्रीसंत की की बातचीत के साथ विश्वकप फाइनल देखना उत्साह को बढ़ा रहा था। नवजोत सिंह सिद्धू का बीच बीच में कमजोर दिल वालों को चेतावनी देना मैच का रोमांच बढ़ा रहा था। 
Bumrah hero of the series 

        टी20 क्रिकेट का नया चैंपियन बनने से पहले एक समय मैच में ऐसा मोड़ आया कि सभी भारतीयों के मुँह लटक गए। कुल मिलाकर रोहित की रणनीति से भारत ने 17 साल बाद फाइनल में  हारी हुई बाजी को जीतकर टी20 वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया। 
 @Rahul_Dravid cool man जो जल्दी से उत्साह दिखा नहीं पाते, चैम्पियन बनने पर खुलकर खुशी जताई 
    स्टेडियम में बैठे दर्शकों के साथ ही घर बैठकर मैच देख रहे हमारे विश्वास की नैया भी उस समय हिचकोले खाने लगी जब  दक्षिण अफ्रीका ने 15 ओवर में 4 विकेट पर 147 रन बना लिए थे। ऐसा लगने लगा था कि अब दक्षिण अफ्रीका की जीत पक्की है। लेकिन अच्छी रणनीति, सधी हुई बॉलिंग शानदार फिल्डिंग के बलबूते भारतीय खिलाडियों ने दक्षिण अफ्रीका के जबड़े से जीत छीन ली। 
     आखरी ओवर में दक्षिण अफ्रीका को जीत के लिए 16 रनों की  आवश्यकता थी।  क्रीज पर डेविड मिलर खड़े थे। उनके लिए गेंदों में 16 रन बनाना बड़ी बात नहीं थी लेकिन भारत को भी चैंपियन बनना था इसलिए आखरी ओवर डालने आए हार्दिक पांड्या, और.. और चमत्कार हुआ.! हार्दिक पांड्या की पहली ही गेंद पर डेविड मिलर ने छह रन के लिए बल्ला घुमा दिया। लेकिन बाउंड्री पर खड़े सूर्य कुमार  ने छक्के के लिए जा रही बाल को जादुई अंदाज़ में कैच कर लिया। ये कैच ही मैच का टर्निंग पॉइंट स्थापित हुआ और 
     2024 टी20 वर्ल्ड कप फाइनल में टीम इंडिया ने दक्षिण अफ्रीका को 7 रनों से हरा कर विश्व कप की ट्रॉफी अपने नाम की। 177 रनों का पीछा करते हुए 17 साल बाद  भारत ने टी20 वर्ल्ड कप का खिताब जीता। जीत के साथ ही आधी रात को
देश के की हर गली, हर मौहल्ले में उत्सव मनाया जाने लगा।   

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सूरमा - रामधारी सिंह ' दिनकर' - # पाठ्यपुस्तक - # नई आशाएँ

पाठ्यपुस्तक नई 'आशाएँ '-    सूरमा(कविता) - रामधारी सिंह 'दिनकर '    सूरमा - रामधारी सिंह 'दिनकर' सच है विपत्ति जब आती है,     कायर को ही दहलाती है |    सूरमा नहीं विचलत होते,     क्षण एक नहीं धीरज खोते |   विघ्नों को गले लगाते हैं,       काँटों  में राह बनाते हैं |    मुँह से कभी ना उफ कहते हैं,    संकट का चरण न गहते हैं |    जो आ पड़ता सब सहते हैं,     उद्योग- निरत नित रहते हैं |    शूलों का मूल नसाने हैं ,     बढ़ खुद विपत्ति पर छाते हैं |         है कौन विघ्न ऐसा जग में,      टिक सके आदमी के मग में?      खम ठोक ठेलता है जब नर,     पर्वत के जाते पाँव उखड़ |     मानव जब जोर लगाता है,      पत्थर पानी बन जाता है |           गुण बड़े एक से एक प्रखर,       हैं छिपे मानवों के भीतर       मेहंदी में जैसे लाली हो,       वर्तिका बीच उजियाली हो |      बत्ती  जो नहीं जलाता है,      रोशनी नहीं वह पाता है |     कवि परिचय -    #रामधारी सिंह 'दिनकर '-- हिंदी के प्रमुख कवि लेखक और निबंधकार थे। उनका जन्म 1908 में बिहार राज्य के बेगुसराय जिले में सिमर

जलाते चलो - - #द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

भावार्थ   जलाते चलो - -  #द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी का जन्म 1 दिसम्बर 1916 को आगरा जिला के रोहता गाँव में हुआ। उनकी मुख्य कृतियाँ - 'हम सब सुमन एक उपवन के' , 'वीर तुम बढ़े चलो'...  जलाते चलो ये दिये स्नेह भर-भर कभी तो धरा का अँधेरा मिटेगा। ये दंतुरित मुस्कान हंसिनी का श्राप भले शक्ति विज्ञान में है निहित वह कि जिससे अमावस बने पूर्णिमा-सी; मगर विश्व पर आज क्यों दिवस ही में घिरी आ रही है अमावस निशा-सी। क्यों लड़ती झगड़ती हैं लड़कियाँ बिना स्नेह विद्युत-दिये जल रहे जो बुझाओ इन्हें, यों न पथ मिल सकेगा॥1॥ नारी अस्मिता और यथार्थ जला दीप पहला तुम्हीं ने तिमिर की चुनौती प्रथम बार स्वीकार की थी; तिमिर की सरित पार करने तुम्हीं ने बना दीप की नाव तैयार की थी। पन्नाधाय नारी अब कमज़ोर नहीं बहाते चलो नाव तुम वह निरंतर कभी तो तिमिर का किनारा मिलेगा॥2॥ वर्तिका रूप नारी का युगों से तुम्हींने तिमिर की शिला पर दिये अनगिनत हैं निरंतर जलाये; समय साक्षी है कि जलते हुए दीप अनगिन तुम्हारे पवन ने बुझाये। प्रेम नदी और स्त्री मगर बुझ स्वयं ज्

हिंदी कविता - लीलटांस #नीलकंठ

लीलटांस#नीलकंठ                      लीलटांस #नीलकंठ             अमृतसर ट्रेन हादसे के मृतकों को श्रद्धांजलि नहीं देखा था उन्हें किसी कुप्रथा या अंधविश्वास को मानते पर.. कुछ परम्पराएं थीं जो निभाते रहे सदा। दादा जाते थे दशहरे पर लीलटांस देखने  उनके न रहने पर  जाने लगे पिता।  घर से कुछ ही दूर जाने पर  दिख जाता था तब  धीरे-धीरे दूर होता गया  पिता की पहुँच से लीलटांस।  जाने लगे पाँच कोस खेत तक  ढूँढने उसे  हमारी साथ जाने की ज़िद के आगे हार जाते..  किसी को कंधे पर तो  किसी की ऊंगली थाम  बिना पानी पिए,  चलते थे अनवरत दूर से दिखने पर  लीलटांस... लीलटांस...  चिल्ला दिया करते थे  हम बच्चे.. और  .                            लीलटांस # नीलकंठ                                 विरह गीत  भी पढ़ें  बिना पिता को दिखे  उड़ जाता था लीलटांस, उसी को दर्शन मान रास्ते में एक वृक्ष रोपते हुए  लौट आते थे पिता घर,  अंधविश्वास नहीं  विश्वास के साथ। फिर से घर के नजदीक  दिखेगा लीलटांस।  सुनीता बिश्नोलिया ©®