सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

वर्तिका - हर नारी

हाल की पोस्ट

सुप्रभात

भानू है ज्यों कनक-घट,         राही हम गए ठिठक, स्वर्ण सी ये रश्मियाँ,       आच्छादित धरा घने विटप। क्षितिज में प्रतीत है उदित,         उत्तरोत्तर ताप अपरिमित, अभिभूत है नयन सभी,        दिनकर को देख अवतरित। अद्घोषक उषा काल का,              अंशुमाली आ रहा है, विचरण करे गगन में ये,                 सृष्टि को जगा रहा। पथिक पथ पर खड़े,                 सूर्य -रोशनी बढ़े, माना घना ये ताप है,           राह सूरज दिखाता आप है। नयनाभिराम दृश्य ये              दृग भर रहे नयन में हैं, निहार सूर्य-रश्मियाँ,              आह्लाद सबके मन में  है। #सुनीता बिश्नोलिया #जयपुर

अटल बिहारी वाजपेयी

अटल  बिहारी वाजपेयी  नमन  अटल .. # अटल उदात्त शांत सागर सा वो     भावो की भरी गागर सा वो। मुग्ध हुआ था विश्व पटल        जब बोल उठा था वीर  अटल । पर्वत सा साहस ऊँचा था           सागर से गहराई ज्यादा। हिंदी के मीठे स्वर फूटे          थे  वीर  अटल  ने दिल लुटे अटल  स्वप्न नयनों में लेके,मधुर कविता गाता देश-प्रेम का जज्बा दिल में,मुख उसका बतलाता । निडर ऐसा लापरवाह ,अंजाम से ना घबराता पथ के पत्थर को मार के ठोकर,आगे वो बढ़ जाता । निज भाषा के शब्दों को , विश्व मंच पे था बिखराया विश्व-पटल पर खड़ा  अटल  वो,मेघ के सम था गरजा । पोकरण या कारगिल हो ,शक्ति सिंह सी दिखलाता। दुश्मन को  लाचार बनाकर,नाकों चने चने चबवाता। राजनीति का चतुर खिलाडी,शब्दों के तीर सुनहले, खुद उलझन में फंसता पर,परहित हर द्वार थे खोले। कथनी करनी एक सामान, आँखों में बस हिंदुस्तान, अटल  वचन वाला वो सिपाही, अटल  बिहारी है महान। अटल -फैसला, अटल -ह्रदय से, लेना तब मज़बूरी थी, गद्दारों को सबक सिखाने , की पूरी तैयारी थी। तैयार खड़े थे सीमा पर,तोपों की गर्जन थी भारी थी, सबक सिखाया दुश्मन को,पाक को दी सीख करारी थी। #स

कौन कहता है, सपने पूरे नहीं होते - लोकार्पण सपनाज ड्रीम्स इन डेजर्ट (एक पाती), अस्मिता (कहानी संग्रह)

लोकार्पण- सपनाज ड्रीम्स इन डेजर्ट (एक पाती)   फरिश्ता बन गया कोई चमकता है सितारों में , बनके हर फूल में खुशबू वो रहता है  बहारों में,  किन्हीं आँखों का वो सपना है, उन्हीं आँखों में जिंदा है -   फँसे ना कोई लहरों में वो रहता है किनारों में।।  अस्मिता ( कहानी-संग्रह)        कौन कहता है कि सपने सच नहीं होते हाँ! काँच से नाजुक और पानी के बुलबुले से क्षण भंगुर होते हैं सपने।          कुछ सपने जो क्षण भर के लिए आँखों में आते हैं पर कुछ आँखें इसी एक क्षण में उन सपनों को आँखों के रास्ते ह्रदय में बंद कर लेते हैं।      सपनों को पूरा करने की ठान चुका व्यक्ति जुट जाता है जी जान से अपने सपने को पूरा करने।      एक सपने की किलकारियाँ गूंजी थी नीलम शर्मा जी के आँगन में नीलम जी ने भी देखा था एक सपना... बस क्षणिक ।            बाईस वर्षो तक उस सपने को आँखों में काजल की तरह लगाया। जीवन की हर रिक्तता को अपनी हँसी से  पूरा करता अपनी सुखद उपस्थिति की अनुभूति के अनूठे एहसास से देखते ही देखते उस बुलबुले ने सपना जी के दिल के कोने में खास स्थान ले लिया लिया।         उस सुहाने

बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

मन के सच्चे होते हैं बच्चे  तुम्हारी नादानियों की चटकती कलियाँ और वो नटखट अंदाज़ से  खिलते फूलों की खुशबु । गुदगुदा देती है।  शिकायतों की पोटली से  बाहर झाँकती कतरन सी  एक-दूजे की  प्यारी सी शिकायतें  और प्यार के गुल्लक में बजते  सिक्कों के से तुम्हारे स्वर। हँसा देते हैं।  तने का स्पर्श पाने की ज़िद करते  शाख के पल्लव की तरह कभी आगे की सीट पर बैठने के लिए लड़ना और कभी  चुपचाप पीछे जाकर बैठ जाना  आनंदित करता है।  सदा वसंत से खिलखिलाते हुए बिना बात मुस्कुराना और  पानी पीने के बहाने से  साथी को इशारे से बुलाना  हर्षा देता है मन को। बादलों में छिपते-निकलते  चंचल चांद की तरह अठखेलियाँ करते हुए  'आज मत पढ़ाओ न मैम'  कहकर प्यार से रिझाना मन में मिठास भर देता है। जल से भरी उमड़ती-घुमड़ती  शिकायतों की बरसती बदली और   झूठे आश्वासन देते   बहानेबाज सावन की तरह  कॉपी के खो जाने और  घर भूल आने का वही  पुराना बहाना लगाना हँसा देता है। मेरे प्यारे नटखट  हर बात तुम्हारी  भर देती है आशा और  नवऊर्जा मन में  बड़ा दूर रह लिए हम  अब छंट रहे हैं  कोरोना के काले बादल। फिर भी सावधान रहना 

ईशमधु तलवार जयंती

जीवन की दुर्गम राहों में, तुम चलते रहते थे ! तेरी छाया में ऐ! तरुवर, पुष्प पला करते थे।  घुप्प अंधेरों की महफ़िल में  रात चांदनी मुश्किल थी, राह  कटे बेखौफ तभी,  किस्सों के दीप जलाया करते थे।  जीवन की दुर्गम राहों में, तुम चलते रहते थे ! चुप्पी नहीं, बोलना होगा  नहीं बैठना, चलना होगा,  खड़े सवालों के घेरों को  राहों के तुम अवरोधों को, ठोकर मार गिराते  थे,  जीवन की दुर्गम राहों में, तुम चलते रहते थे ! एक कोना तय अपना था  कौन जानता था हमको  नाम दिया पहचान मिली साथ तुम्हारा पाकर के।  भूले हम थे अनजाने,  तुम हाथ हर इक सर धरते थे।  जीवन की दुर्गम राहों में, तुम चलते रहते थे ! राह बहुत बाकी थी राही   इतनी भी क्या जल्दी थी,   तेरी शब्दों की ताकत से   हिम सी पीर पिघलती थी,  रुक गए तुम ,  तुम्हारे आगे दंभ और आलस कहाँ ठहरते थे  जीवन की दुर्गम राहों में, तुम चलते रहते थे ! सुनीता बिश्नोलिया

गांधी जयंती - महात्मा गांधी

गांधी जयंती  बापू को शत शत नमन 🙏🙏 गाँधी का  सपना भारत हो,              शिक्षित, स्वच्छ, समर्थ,  सम नर -नारी हों और समझें,               हम धर्मों का अर्थ ।     मीठे वचनों  का  जल  बरसे                   भीगे हर इक मन    त्यागें कटु वचन हर जन और,                    गाएं हरी भजन । राह झूठ की छोडें मानव                 मन सत्य हो ज्यों दर्पण  पर सेवा पर उपकार करें,                 कर तन-मन, धन अर्पण । द्वेष, दंभ, मन से निकले,                 हो ह्रदय प्रेम  संचार,  घृणा, क्रोध के भाव न जागें,               बहे शांति की मधुर  बयार । सदकर्मों की ज्योति से हो,                जगमग भारत  देश   हाथों पर विश्वास स्वयं के                 बदल तू खुद परिवेश  । स्कूल हुए गुलजार सुनीता बिश्नोलिया        

भारतीय संस्कृति

भारतीय संस्कृति गांधी जयंती गुलजार हुए स्कूल रंग बिरंगी, अनोखी, अलबेली है भारतीय संस्कृति,विशाल ह्रदय वाली, विदेशी संस्कृतियों को ह्रदय में समाहित करके भी अपने  स्वरुप को नहीं खोने वाली है भारतीय संस्कृति । संस्कृति सिखाती है विनय,प्रेम, सहिष्णुता आदर- सम्मान जिसका पालन करना हम भारतीयों को जन्म से ही सिखा देने की परम्परा है या कहें संस्कृति ही है।  जब भी भारतीय संस्कृति की बात होती है तो सबकी निगाहें महिला और महिलाओं के परिधानों पर आकर अटक जाती है क्यों... क्योंकि हमारी सोच इससे आगे बढ ही नहीं पाती है ।                                            जिस व्यक्ति की आदत महिलाओं को घूंघट में देखने की पड़ गई है वह किसी महिला को पाश्चात्य परिधान में पूरे ढके हुए बदन में देख कर भी उस पर संस्कृति के हनन का आरोप लगाता है।        हमारी संस्कृति इतनी पिछड़ी हुई नहीं वरन ये उस व्यक्ति का दृष्टि -दोष कहलाएगा...           महिला का पाश्चात्य परिधान में रहना सांस्कृतिक अस्मिता का ह्वास नहीं वरन परम्परावादी सोच के आगे एक कदम है।                         वास्तव में पाश्चात्य संस्कृति

गुलजार हुए स्कूल

#राजस्थान पत्रिका       "मैम स्कूल कब खुलेगा, हमें स्कूल आना है।   आपसे मिलना है, फ्रेंडस से मिलना है। "     "मैम प्लीज एक बार स्कूल दिखा दीजिए।"   प्लीज मैम हमारी क्लास दिखा दीजिए.. प्लीज.. प्लीज।"    ऑनलाइन पढ़ाते हुए बच्चों का स्कूल आने के लिए इस तरह मचलना देखकर चाहते हुए भी  उन्हें स्कूल नहीं बुला पाते थे । हाँ लेपटॉप के साथ ही क्लास को मोबाइल से जोड़कर बच्चों को दूर से ही विद्यालय का भ्रमण अवश्य करवा दिया करते थे । बच्चों की खास फरमाइश पर उन्हें स्कूल के पसंदीदा स्थान दिखाकर उनके चेहरे पर मुस्कराहट बिखरने में तब भी शिक्षकों ने कसर नहीं छोड़ी और अब जब बच्चे स्कूल आने लगे हैं तब भी शिक्षक दोगुनी ऊर्जा से जिम्मेदारियाँ निभा रहे हैं।                  स्कूल स्टाफ हो या छात्र सभी को थर्मल स्क्रीनिंग और हैंड सेनेटाइज करने के बाद ही  स्कूल में प्रवेश की अनुमति दी जाती है।           स्कूल के मुख्य गेट पर खड़े गार्ड से लेकर शिक्षक तक सभी मास्क पहने हुए और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हैं।          अधिकांश बच्चे अब स्कूल आने लगे हैं। स्कूल आक

हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं  शब्दों की सरिता बहे, बोले मीठे बोल।  हिंदी भाषा है रही कानों में रस घोल।।  पश्चिम के तूफान में, नहीं पड़ी कमजोर।  हिंदी शब्दों की लहर,करती रही हिलोर।  सोने सी महँगी बड़ी, हीरे सी अनमोल  इसे चुरा पाए नहीं, भारत आए चोर।।  सरस शब्द ही जान है, इनसे है पहचान।  हिंदी की गाथा सकल, गाता सदा जहान। नव सृजन, नव गीत और, दोहा, रोला,छंद रस की गागर अंक भर,गाती मीठे गान।।  शब्द-  शब्द सम्मान है, होते गहरे अर्थ।  थोड़े में ज्यादा कहें, नहीं बहाओ व्यर्थ । आँचल में इसके कई, भाषा करें किलोल हिंदी भाषा हिन्द की, सच में बहुत समर्थ।।   सुनीता बिश्नोलिया © ® जयपुर 

इमली का बूटा

   इमली का बूटा...      इमली... नाम सुनते ही आ गया ना मुँह में पानी। मुँह में पानी तो मेरे भी आ गया पर मुझे तो इमली की कहानी ही कहनी है तो संभालना पड़ेगा अपने आपको।      हाँ तो यहाँ मैं बात करने वाली हूँ इमली की.. नहीं.. नहीं सिर्फ इमली नहीं इमली के पेड़ की। इमली का पेड़ हाँ भई बहुत ऊँचा और घना पेड़ होता है इमली का।मुझे इमली का पेड़ बहुत पसंद है क्योंकि बचपन से ही देखते आई हूँ इमली के पेड़ को।     सीकर में देवीपुरा में हनुमान जी का बहुत ही भव्य मंदिर है। ये मंदिर देवीपुरा बालाजी के नाम से प्रसिद्ध है।    पिताजी बालाजी के पक्के भक्त थे इसलिए वो इस मंदिर में रोज जाया करते थे इसलिए हम भी कभी- कभी उनकी उंगली पकड़ कर उनके साथ चले जाते थे।      पिताजी के साथ हमारे मंदिर जाने का कारण हमारी भगवान में आस्था कतई नहीं थी।    हमारी आस्था का केंद्र था मंदिर में खड़ा इमली का पेड़। जिसकी सघन शाखाओं पर पक्षी किलोल करते तो हम बच्चे मुँह में पानी भरे एक दूसरे को उसकी शाखाओं से लटकती कच्ची-पक्की  लटकती इमलियां दिखाने के लिए आँखें गोल-गोल करते।