सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

अप्रैल, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

श्रम सुंदरी

नाजुक अंग कोमल काया,तिस पर बिन सिंगार, बेल से नाजुक अंगों पर, बहती अमृत धार। रूप तेरा ज्यों चटख चांदनी,'ओ' गर्वीली नार, तड़ित हास् मुख से ना छुपा,बहने दे तू बयार। ललाट तेरे की शोभा सिंदूरी,क्यों आँचल में छिपाए, सूरज की लालिमा मुख पे गौरी,तेरे रूप को और बढाए। अंजान बोल आते तुझ तक , तेरे रूप को मलिन बनाए। तेरी आँखों का फैला काजल,खुद तेरा हाल सुनाए। धरती सा तेरा धैर्य कहीं  ,ना झरने सा बह जाए, तेरा रूप दमकते हीरे सा,कहीं धुंधला ना पड़ जाए।  मैली चुनरिया ओढ़ कामिनी,बोझा मस्तक धारे,  कर्मातुर तेरे हाथ सखी, तेरे रूप   को और निखारे। #सुनीता बिश्नोलिया #जयपुर

विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

विश्व पुस्तक_ दिवस_   तम का करती नाश ये, हृदय जलावे जोत। राहों को रोशन करे, नन्हा सा खद्योत।।              सच ही तो हैं  किताबें जुगनू की ही तरह  अज्ञान रूपी अंधियारे मार्ग में टिमटिमाकर भटकों को राह दिखाती हैं। मेरे अनुसार किताबों का सतरंगी संसार... सतरंगी इसलिए कि नीले आकाश से लेकर माँ धरती  और  प्रकृति के विविध रंग  सिमटे हैं, सफेद धरातल पर लिखे काले आखरों में ।किताबें उस अनंत तक पहुँचने का वो जादुई द्वार है जहाँ से प्रवेश कर हमारी हर जिज्ञासा को शांत  ही नहीं करती   वरन हर उत्तर प्राप्त कर,नवीन रहस्यों को भी उद्घाटित करती हैं। किताबें तो वो जादुई चिराग हैं जिन्हें ज्ञान प्राप्ति हेतु घिसने भर की देर है।

मैं हिरनी - जंगल बचाओ धरती बचाओ

मैं हिरणी..... धरती बचाओ... मैंने सूरज की गर्मी से,                  तप्त धरा को देखा है। वन-उपवन हरियाली के बिन,                  मानव मरता देखा है।। करती थी अभिमान स्वयं पे,                   मैं जंगल की रानी हूँ। सपने से जागी तो देखा                    भूली हुई कहानी हूँ।। देख रही मानव का लालच                    कहे भाग का लेखा है। वन-उपवन हरियाली के बिन,                    मानव मरता देखा है।। कहो कहाँ तक मनुज रहेगा,                      मस्ती में जो डूबा है। मुझ हिरणी का घर भी छीना                     आगे क्या मंसूबा है। जंगल काटे वन भी काटे                   चमन उजड़ते देखा है वन-उपवन हरियाली के बिन,                   मानव मरता देखा है।। पेड़ों के झुरमुट में मैं तो,                    दौड़ लगाया करती थी। शेर,बाघ ,चीतों को भी मैं,                    खूब छकाया करती थी।। मत काटो जंगल उपवन को                    भू पर संकट देखा है। वन-उपवन हरियाली के बिन,                     मानव मरता देखा है।।

उज्ज्वल भविष्य का निर्माण

#लॉकडाउन डायरी   #उज्ज्वल भविष्य का निर्माण      सुबह जल्दी उठकर घर के सारे काम निपटाकर साढ़े सात बजे स्कूल जाना और प्यारे-प्यारे बच्चों का अभिवादन स्वीकार कर घर को भूलकर अब इन्हीं बच्चों के साथ प्रार्थना सभा में खड़ा होना। स्कूल में इधर-उधर भागते उछलते -कूदते और धमा चौकड़ी मचाते बच्चे हँसते-मुस्कुराते बच्चों के साथ दिन कब बीत जाता पता ही नहीं चलता था। पर कोरोना संकट के कारण वार्षिक परीक्षा  भी पूरी नहीं हो पाई कि बच्चों की सुरक्षा हेतु सरकार की घोषणा से पहले ही स्कूल प्रशासन ने बच्चों की छुट्टी घोषित कर दी। दो दिन बाद सरकारी आदेश के पश्चात अध्यापकों को भी घर से स्कूल का कार्य करने हेतु निर्देश देकर छुट्टी कर दी गई तथा अभिभावकों को आश्वासन दिया कि किसी  भी हाल में बच्चों की पढ़ाई नहीं ख़राब होगी।    दो ही दिन में छात्रों की ऑनलाइन पढ़ाई की रूपरेखा तैयार हो गई और बच्चों से मोबाइल के माध्यम से संपर्क करने लगे।     छुट्टी होते ही कई बच्चे गाँव चले गए कई यहीं पर थे, कुछ फोन उठाते कुछ नहीं, कुछ का बाद में फोन आता-     'नमस्कार मैम मैं हर्षिता की मम्मी बोल रही हूँ,सॉरी मैम आपका फोन नहीं

अनोखी दोस्ती

अनोखी दोस्ती  चलिए आज मैं आपको मिलवाती हूँ लॉकडाउन के बीच आसरा ढूँढते हुए हमारे घर आए नए मेहमानों से । अरे! भई चिंता ना करें इन्हें कोरोना कुछ नहीं कह सकता और ना ही इनके कारण हमें कोई डर।   ये तो है एक प्यारी कबूतरी और कबूतर का जोड़ा कई दिनों से ये घर की बालकनी में रखे ग़मलों के पूछे घोंसला बना रहे थे। सफाई करने के दौरान मैंने एक दिन ग़मलों में भरने के लिए रखी मिट्टी की बाल्टी वहाँ रख दी और बालकनी का दरवाज़ा बंद करके अंदर आ गई। अंदर से ही दिनभर बालकनी में मैं कबूतरों की आवाजाही को देखती रही। शाम के लगभग पाँच बजे मेरा प्यारा जिमी बालकनी खुलवाने की जिद करने लगा तो चाय पीते हुए मैंने बालकनी खोल दी। अंदर आने लगी तो कबूतर की फड़फड़ाहट महसूस हुई और जिम्मी भी कूं-कूं करता हुआ वापस अंदर भाग आया। मैं देखने गई तबतक मम्मी जी यानी मेरी सास वहाँ पहुँच गई़। हम दोनों को बड़ा आश्चर्य हुआ कि मिट्टी वाली बाल्टी में  कबूतर का घोंसला बना हुआ है और उनमें दो अंडे पड़े हैं वहीं पास में शेरनी बनकर बैठी कबूतरी जिसने मेरे पाँच साल के डॉग जिम्मी को डरा कर भगा दिया।      मम्मी ने सबको कह दिया इन्हें कोई नहीं छेड़

जलाते चलो - - #द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

भावार्थ   जलाते चलो - -  #द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी का जन्म 1 दिसम्बर 1916 को आगरा जिला के रोहता गाँव में हुआ। उनकी मुख्य कृतियाँ - 'हम सब सुमन एक उपवन के' , 'वीर तुम बढ़े चलो'...  जलाते चलो ये दिये स्नेह भर-भर कभी तो धरा का अँधेरा मिटेगा। भले शक्ति विज्ञान में है निहित वह कि जिससे अमावस बने पूर्णिमा-सी; मगर विश्व पर आज क्यों दिवस ही में घिरी आ रही है अमावस निशा-सी। बिना स्नेह विद्युत-दिये जल रहे जो बुझाओ इन्हें, यों न पथ मिल सकेगा॥1॥ जला दीप पहला तुम्हीं ने तिमिर की चुनौती प्रथम बार स्वीकार की थी; तिमिर की सरित पार करने तुम्हीं ने बना दीप की नाव तैयार की थी। बहाते चलो नाव तुम वह निरंतर कभी तो तिमिर का किनारा मिलेगा॥2॥ युगों से तुम्हींने तिमिर की शिला पर दिये अनगिनत हैं निरंतर जलाये; समय साक्षी है कि जलते हुए दीप अनगिन तुम्हारे पवन ने बुझाये। मगर बुझ स्वयं ज्योति जो दे गये वे उसी से तिमिर को उजेला मिलेगा॥3॥ दिये और तूफान की यह कहानी चली आ रही और चलती रहेगी; जली जो प्रथम बार लौ दीप की स्वर्ण-सी जल रही और

#स्टेडियम की उदासी

चूं-चूं,चर-चर, कुहू -कुहू, गुटर-गूं, पिहू-पिहू,फड़-फड़, फर-फर.. के स्वर के बीच, कुत्तों के भौंकने, लोगों के दौड़ने-हांफने और बातें करने की आवाजें सुबह चार बजे ही तो शुरू हो जाती है यहाँ।      ' आज स्टेडियम के चार चक्कर लगा लिए चलो शर्मा जी अब थोड़ी देर सुस्ता लेते हैं। ' ' हाँ-हाँ चलिए सच कहा बातों ही बातों में आज कुछ ज्यादा ही सैर करली, चलिए वहाँ हमारी सारी मित्र मंडली बैठी है उधर ही चलते हैं। ' अरे ये बच्चे भी सुबह-सुबह बैट और बल्ला लेकर आ जाते हैं स्टेडियम के अंदर।'   'ठीक ही तो है बच्चे भी बिचारे कहाँ जाएं स्टेडियम के अंदर ये तो खेलेंगे ही। '  'हाँ बस ध्यान ये से खेलें किसी को बॉल से चोट ना लग जाए।'    ' बेटा, देखो अभी यहाँ कितने लोग सैर कर रहे हैं,तुम्हारी बॉल से किसी को चोट लग जाएगी क्रिकेट खेलना हो तो थोड़ी देर से खेला करो। '   ' अंकल फिर हमारे स्कूल का टाइम हो जाता है, हम ध्यान से खेलेंगे आप आप चिंता मत करो हमारी बॉल आपकी तरफ नहीं आएगी। '     'बीना, थोड़ा जल्दी-जल्दी चलो, बच्चों के स्कूल का टाइम हो रहा