सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

इमली का बूटा

  इमली का बूटा...

     इमली... नाम सुनते ही आ गया ना मुँह में पानी। मुँह में पानी तो मेरे भी आ गया पर मुझे तो इमली की कहानी ही कहनी है तो संभालना पड़ेगा अपने आपको।


     हाँ तो यहाँ मैं बात करने वाली हूँ इमली की.. नहीं.. नहीं सिर्फ इमली नहीं इमली के पेड़ की।
इमली का पेड़ हाँ भई बहुत ऊँचा और घना पेड़ होता है इमली का।मुझे इमली का पेड़ बहुत पसंद है क्योंकि बचपन से ही देखते आई हूँ इमली के पेड़ को।


    सीकर में देवीपुरा में हनुमान जी का बहुत ही भव्य मंदिर है। ये मंदिर देवीपुरा बालाजी के नाम से प्रसिद्ध है।
   पिताजी बालाजी के पक्के भक्त थे इसलिए वो इस मंदिर में रोज जाया करते थे इसलिए हम भी कभी- कभी उनकी उंगली पकड़ कर उनके साथ चले जाते थे।
     पिताजी के साथ हमारे मंदिर जाने का कारण हमारी भगवान में आस्था कतई नहीं थी।


   हमारी आस्था का केंद्र था मंदिर में खड़ा इमली का पेड़। जिसकी सघन शाखाओं पर पक्षी किलोल करते तो हम बच्चे मुँह में पानी भरे एक दूसरे को उसकी शाखाओं से लटकती कच्ची-पक्की  लटकती इमलियां दिखाने के लिए आँखें गोल-गोल करते।

 
     उस समय बालाजी का ये मंदिर इतना तरह भव्य नहीं था। बहुत छोटे से कमरे में विराजमान थे हनुमान जी और हनुमानजी की की मूर्ति के पीछे था बहुत ही बड़ा और घना इमली का पेड़।
    कच्ची पक्की इमलियां और.. और उसके खट्टे - खट्टे पत्ते हमें बहुत अच्छे लगते थे।
पुजारी जी पिताजी के मित्र हुआ करते थे। इसलिए हमें ज्यादा रोका-टोका नहीं जाता था।
  जो एक बार हम इमली खाने लगते तो जी भरकर इमली खाते और फिर  अपने खट्टे हो चुके दाँतों से दो दिन तक खाना खाने के लिए भी बहुत मशक्कत करनी पड़ती।

 
    बस इसी लालच से जाया करते थे हम हनुमान जी के मंदिर। सच कहूँ तो वो पेड़ उस मंदिर की पहचान था। आज भी जब सीकर जाती हूँ तो देवीपुरा बालाजी के जाने की पूरी कोशिश करती हूँ।
'भूल गई बचपन की मस्ती, बदल गया परिवेश
पर फिर भी ना भूली मैं,कुछ यादें मन में शेष।'



  मेरा इमली प्रेम यहीं खत्म नहीं होता जहाँ भी इमली का पेड़ देखती हूँ जाग उठती है मन में सोई छोटी सी बच्ची और करने लगती है अठखेलियाँ हवा संग डोलती तरु शाखाओं सी।  जिस समय पतिदेव की पोस्टिंग मुंबई थी तब एक बार हम शिरडी से शनि शिंगणापुर जा रहे थे। रास्ते में इमली के पेड़ देखते ही खिल उठा मन मंजरी सा। मैंने गाड़ी रुकवाई और देखने लगी ललचायी नजरों से पेड़ पर लगी इमलियां और सच कहूँ तो मुझे एक दो इमलियां मिल भी गईं और पेड़ से टूटी इमलियां पाकर पहुँच गई मैं अपने अलमस्त बचपन में...

 
     और इमली पुराण यहीं खत्म नहीं होता क्यों कि इमली का पेड़ देखते ही मैं भाग उठती हूँ एक अल्हड़ बाला सी.. ऎसा ही हुआ कलमकार साहित्यिक यात्रा के दौरान उज्जैन में।
      उज्जैन पहुँचकर आसपास के दर्शनीय स्थल देखने के लिए हम साहित्यकारों का समूह  होटल से बाहर निकलकर कुछ ही दूर आया था कि एक बहुत ही घना और पुराना इमली का वृक्ष दिखा। हम सब सखियाँ इमली के उस वृक्ष को छूने का मोह संवरण नहीं कर पाई और घेर लिया इमली के वृक्ष को खिलखिलाने लगी सोन चिरैयां सी और मुझे याद आया मेरा बचपन जब हम बच्चे भी इसी तरह लिपट जाते थे इमली के उस वृक्ष से.....

 
सुनीता बिश्नोलिया 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जलाते चलो - - #द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

भावार्थ   जलाते चलो - -  #द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी का जन्म 1 दिसम्बर 1916 को आगरा जिला के रोहता गाँव में हुआ। उनकी मुख्य कृतियाँ - 'हम सब सुमन एक उपवन के' , 'वीर तुम बढ़े चलो'...  जलाते चलो ये दिये स्नेह भर-भर कभी तो धरा का अँधेरा मिटेगा। भले शक्ति विज्ञान में है निहित वह कि जिससे अमावस बने पूर्णिमा-सी; मगर विश्व पर आज क्यों दिवस ही में घिरी आ रही है अमावस निशा-सी। बिना स्नेह विद्युत-दिये जल रहे जो बुझाओ इन्हें, यों न पथ मिल सकेगा॥1॥ जला दीप पहला तुम्हीं ने तिमिर की चुनौती प्रथम बार स्वीकार की थी; तिमिर की सरित पार करने तुम्हीं ने बना दीप की नाव तैयार की थी। बहाते चलो नाव तुम वह निरंतर कभी तो तिमिर का किनारा मिलेगा॥2॥ युगों से तुम्हींने तिमिर की शिला पर दिये अनगिनत हैं निरंतर जलाये; समय साक्षी है कि जलते हुए दीप अनगिन तुम्हारे पवन ने बुझाये। मगर बुझ स्वयं ज्योति जो दे गये वे उसी से तिमिर को उजेला मिलेगा॥3॥ दिये और तूफान की यह कहानी चली आ रही और चलती रहेगी; जली जो प्रथम बार लौ दीप की स्वर्ण-सी जल रही और

नश्वर जीवन...नहीं मरूंगी मैं

नहीं मरूंगी मैं  दुनिया है दुनिया में अपनी  आज निशानी छोड़ रही हूँ  झूठ जगत में रिश्ते नाते  मगर निभाए सारे हैं  क्या पाया रिश्ते-नातों में  मत पूछो हम हारे हैं  रिश्तों के पतले धागे मैं  पकड़े हूँ, ना छोड़ रही हूँ  ।।  धरती पर जो  भी आया है एक दिन उसको जाना है,  सत्य जानती हूँ जीवन का छोड़ जगत को जाना है ।  इस नश्वर जीवन का मुख मैं  अमर बेल से जोड़ रही हूँ।।  नहीं मरेगी कभी कविता  जीवन गीत सुनाएगी,  याद रहूँगी किस्सों में  बातें दोहराई जाएंगी । कलम कहेगी किस्से मेरे  इससे रिश्ता जोड़ रही हूँ।।  सुनीता बिश्नोलिया ©®

लघु कथा लेखन

लघु कथा लेखन  लघु कथा लेखन  लघु अर्थात 'संक्षिप्त   लघु कथा साहित्य की प्रचलित और लोकप्रिय विधा है।  देखा जाए तो यह उपन्यास का ही लघु संस्करण है।   हालांकि 'लघु' का मतलब संक्षिप्त होता है किंतु संक्षिप्त' होने के बावजूद भी पाठक  पर इसका प्रभाव दीर्घकालीन  होना आवश्यक है अर्थात लघु कथा गागर में सागर भरने वाली अनुपम विधा है।   किसी उपन्यास के समान इसमें भी पात्र कथानक, द्वंद समायोजन तथा समाधान जैसे तत्व विद्यमान होते हैं।   लघुकथा कल्पना प्रधान कृति है परंतु इसके प्रेरणा जीवन  की वास्तविकता तथा आसपास की घटनाओं से ही मिल जाती है।      अर्थात हम कह सकते हैं कि लघु कथाएं सीमित शब्दों में बहुत कुछ कह देने की योग्यता रखती  हैं तथा पाठकों के अंतर्मन पर पहुंचकर अपना संदेश उन तक पहुंचाती है और यही लघुकथा का  मुख्य उद्देश्य है।   अतः लघुकथा का वास्तविक उद्देश्य तभी सार्थक है जबइसे  पढ़कर   पाठक प्रभावी तथा संतुष्ट हो जाए।   ***लघु कथा लेखन के दौरान ध्यान रखने योग्य जरूरी बातें ----- ** अच्छी लघुकथा लिखने के लिए लेखक को एक अच्छा पाठक होना भी जरूरी