सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हिंदी प्रेम

 हिंदी प्रेम 
 रविवार का दिन था फिर भी सुमित्रा खोई हुई थी अपनी किताबों में।
   पर रोज की तरह आज वो किताबें पढ़ नहीं रही बल्कि उन्हें अपनी लाइब्रेरी में करीने से रख रही थी ।साथ ही बेटे के दोस्त रवि को उसके एन.जो.ओ की लाइब्रेरी में देने के लिए कहानियों एवं व्याकरण की कुछ किताबें अलग-अलग दो कार्टूनों में रख रही थी । 
    तभी दरवाज़े की घंटी बज उठी तो सुमित्रा ने   सोचा - "कौन हो सकता है..? रवि तो शाम को चार बजे आने वाला था।" सोचते हुए सुमित्रा ने दरवाज़ा खोला तो बाहर खड़े लोगों को  पहचानने को कोशिश करने लगी। तभी उनमें से लगभग चालीस वर्षीय व्यक्ति ने उन्हें आगे बढ़कर नमस्कार करते हुए कहा - "नमस्कार मैम... पहचाना मुझे 
 उसकी बोली सुनते ही जैसे सुमित्रा को सब याद आ गया और वो बोली -" अभय ! कैसे भूल सकती हूँ तुम्हें! "
 " मैम मैं भी आपको हर रोज याद करता हूँ।"
 ये सुनकर सुमित्रा ने मुस्कुराकर कहा -"सुना है बहुत बड़ी कंपनी में काम कर रहे हो आजकल। 
 सुमित्रा की बात के जवाब में अभय ने बहुत ही विनम्रता से कहा -" आपकी शिक्षा और संस्कार ही मेरी सफलता का सूत्र है।" 
 प्रत्युत्तर में सुमित्रा बोली - "ये आपका, बडप्पन है बेटा। 
 अपने साथ आए लोगों से मिलवाते हुए अभय ने कहा -" मैम ये मेरे कुछ मित्र है। इंग्लैंड
में  हम सभी हिंदी क्लब के माध्यम से जुड़े हुए हैं.. इन्हे खास आपसे मिलवाने लाया हूँ ।" 
  इसपर सभी ने सुमित्रा का पुनः अभिवादन किया और सुमित्रा ने भी सभी को स्नेह सहित बैठने को कहा। 
    बातों ही बातों अभय ने बताया कि उसने अपने कुछ मित्रों के साथ मिलकर इंग्लैंड मे हिंदी क्लब' की स्थापना की और इसी के माध्यम से बहुत से भारतीय और अंग्रेज परिवार भी जुड़ गए। 
  अभय ने कहा - " मैम यह सब आप ही की प्रेरणा से संभव हो पाया।" 
  इस पर सुमित्रा बोली - "मेरी प्रेरणा से नहीं  तुम्हारी की लगन और हिंदी भाषा के प्रेम के कारण।" 
 ये सुनकर अभय ने कहा -"  इंग्लैंड में जाकर घर और बाहर पूरी तरह अंग्रेजी में खो गया था मैं.. और मेरा परिवार ।" 
  अभय के मित्र ने भी कहा - "हमें लगा कि हमारे  हिंदी भाषा वृक्ष के पत्ते मुरझा गए ।क्योंकि बच्चों को भारत लाते तो हिंदी ना आने के कारण परिवार के साथ उनकी संवादहीनता बढ़ने लगी।"
 ये सुनकर अभय फिर बोला -"  पीढ़ियों में दूरियां बढ़ने लगी भाषिक शाखाएं तले में समाने लगी।" 
  अभय और उसके मित्र की बात सुनकर सुमित्रा ने कहा -" सच कहते हैं आप अंग्रेजी के प्रवाह में हम इस कदर बह गए कि हिंदी वट वृक्ष के ऊपर नीड़ों में बैठे पक्षियों में पलता प्रेम कम हो गया।" 
   " और विदेश में रहकर तरसने लगे हम हिंदी के मीठे शब्दों के लिए इसीलिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने में समक्ष हमारी हिंदी भाषा को विश्व मानचित्र पर पुनः लाने के उद्देश्य से ही हमने इंग्लेंड में हिंदी क्लब स्थापित किया। "
   अभय और उसके मित्र की बातें सुनकर सुमित्रा की बूढ़ी आँखों में  चमक आ गई और वो बोली - "आज जब अपने देश में ही हिंदी वट वृक्ष ठूंठ होता जा रहा है ऐसे में इंग्लैंड जैसे देश में हिंदी का परचम.. वाह!"
    इसपर अभय के दोस्त ने कहा -" ऐसे घने वृक्ष ठूंठ नहीं हुआ करते मैंम।" 
अभय भी बोल पड़ा - "और हिंदी वटवृक्ष की जड़ें तो इतनी गहरी हैं कि यह मौसम की मार से एक बार मुरझाने जरूर लगा था किंतु मुझे विश्वास है कि ये शीघ्र ही पुनः अपना प्राचीन स्वरूप प्राप्त कर सभी को शीतल छाया प्रदान करेगा।" 
  " हमारे हिंदी क्लब में शनिवार और रविवार को विविध गतिविधियां होती है जिसमें सभी का हिंदी बोलना अनिवार्य है।"
  इस बात के जवाब में सुमित्रा ने खुश होते हुए कहा -" हिंदी के उत्थान के लिए यह बहुत ही अच्छा प्रयास है।" 
 सुमित्रा को किताबों से घिरा देखकर अभय ने इतनी किताबें निकालने कारण पूछा तो पता चला कि वो आज भी पहले की तरह  जरूरत मंदों को किताबें और हिंदी ज्ञान हेतु व्याकरण की किताब देती हैं जैसे बहुत समय पहले उसे भी दी थी। 
   अब अभय और उसके दोस्तों ने अपने यहाँ आने का उद्देश्य स्पष्ट करते हुए कहा - "मैम आप के प्रेरक विचारों के कारण मैं कभी हिंदी भाषा का मोह त्याग नहीं पाया  इसलिए आपसे आग्रह है कि इस बार हिंदी दिवस के अवसर  पर आप इंग्लेंड आकर हमारा आतिथ्य स्वीकार करें।"
    पहले तो सुमित्रा ने इस बात को सिरे से नकार दिया पर अभय और उसके दोस्तों के हिंदी के उत्थान हेतु हिंदी दिवस के कार्यक्रम के लिए किए आग्रह वो टाल नहीं पाई और वो मुस्कुरा दी। 
सुनीता बिश्नोलिया 
 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जलाते चलो - - #द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

भावार्थ   जलाते चलो - -  #द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी का जन्म 1 दिसम्बर 1916 को आगरा जिला के रोहता गाँव में हुआ। उनकी मुख्य कृतियाँ - 'हम सब सुमन एक उपवन के' , 'वीर तुम बढ़े चलो'...  जलाते चलो ये दिये स्नेह भर-भर कभी तो धरा का अँधेरा मिटेगा। ये दंतुरित मुस्कान भले शक्ति विज्ञान में है निहित वह कि जिससे अमावस बने पूर्णिमा-सी; मगर विश्व पर आज क्यों दिवस ही में घिरी आ रही है अमावस निशा-सी। क्यों लड़ती झगड़ती हैं लड़कियाँ बिना स्नेह विद्युत-दिये जल रहे जो बुझाओ इन्हें, यों न पथ मिल सकेगा॥1॥ नारी अस्मिता और यथार्थ जला दीप पहला तुम्हीं ने तिमिर की चुनौती प्रथम बार स्वीकार की थी; तिमिर की सरित पार करने तुम्हीं ने बना दीप की नाव तैयार की थी। पन्नाधाय नारी अब कमज़ोर नहीं बहाते चलो नाव तुम वह निरंतर कभी तो तिमिर का किनारा मिलेगा॥2॥ वर्तिका रूप नारी का युगों से तुम्हींने तिमिर की शिला पर दिये अनगिनत हैं निरंतर जलाये; समय साक्षी है कि जलते हुए दीप अनगिन तुम्हारे पवन ने बुझाये। प्रेम नदी और स्त्री मगर बुझ स्वयं ज्योति जो दे गये व

सूरमा - रामधारी सिंह ' दिनकर' - # पाठ्यपुस्तक - # नई आशाएँ

पाठ्यपुस्तक नई 'आशाएँ '-    सूरमा(कविता) - रामधारी सिंह 'दिनकर '    सूरमा - रामधारी सिंह 'दिनकर' सच है विपत्ति जब आती है,     कायर को ही दहलाती है |    सूरमा नहीं विचलत होते,     क्षण एक नहीं धीरज खोते |   विघ्नों को गले लगाते हैं,       काँटों  में राह बनाते हैं |    मुँह से कभी ना उफ कहते हैं,    संकट का चरण न गहते हैं |    जो आ पड़ता सब सहते हैं,     उद्योग- निरत नित रहते हैं |    शूलों का मूल नसाने हैं ,     बढ़ खुद विपत्ति पर छाते हैं |         है कौन विघ्न ऐसा जग में,      टिक सके आदमी के मग में?      खम ठोक ठेलता है जब नर,     पर्वत के जाते पाँव उखड़ |     मानव जब जोर लगाता है,      पत्थर पानी बन जाता है |           गुण बड़े एक से एक प्रखर,       हैं छिपे मानवों के भीतर       मेहंदी में जैसे लाली हो,       वर्तिका बीच उजियाली हो |      बत्ती  जो नहीं जलाता है,      रोशनी नहीं वह पाता है |     कवि परिचय -    #रामधारी सिंह 'दिनकर '-- हिंदी के प्रमुख कवि लेखक और निबंधकार थे। उनका जन्म 1908 में बिहार राज्य के बेगुसराय जिले में सिमर

लघु कथा लेखन

लघु कथा लेखन  लघु कथा लेखन  लघु अर्थात 'संक्षिप्त   लघु कथा साहित्य की प्रचलित और लोकप्रिय विधा है।  देखा जाए तो यह उपन्यास का ही लघु संस्करण है।   हालांकि 'लघु' का मतलब संक्षिप्त होता है किंतु संक्षिप्त' होने के बावजूद भी पाठक  पर इसका प्रभाव दीर्घकालीन  होना आवश्यक है अर्थात लघु कथा गागर में सागर भरने वाली अनुपम विधा है।   किसी उपन्यास के समान इसमें भी पात्र कथानक, द्वंद समायोजन तथा समाधान जैसे तत्व विद्यमान होते हैं।   लघुकथा कल्पना प्रधान कृति है परंतु इसके प्रेरणा जीवन  की वास्तविकता तथा आसपास की घटनाओं से ही मिल जाती है।      अर्थात हम कह सकते हैं कि लघु कथाएं सीमित शब्दों में बहुत कुछ कह देने की योग्यता रखती  हैं तथा पाठकों के अंतर्मन पर पहुंचकर अपना संदेश उन तक पहुंचाती है और यही लघुकथा का  मुख्य उद्देश्य है।   अतः लघुकथा का वास्तविक उद्देश्य तभी सार्थक है जबइसे  पढ़कर   पाठक प्रभावी तथा संतुष्ट हो जाए।   ***लघु कथा लेखन के दौरान ध्यान रखने योग्य जरूरी बातें ----- ** अच्छी लघुकथा लिखने के लिए लेखक को एक अच्छा पाठक होना भी जरूरी